नई कार की डिलीवरी लेते समय कभी ना भूलें ये बात, बाद में हो सकता है पछतावा

car delivery

नई कार को घर लाने की खुशी वास्तव में रोमांचकारी होती है। लोग सालों साल अपने सपनो की कार के लिए मेहनत करते हैं, और खरीदकर अपनी कार को ड्राइव करने के लिए उत्सुकता से इंतजार कर रहे होते हैं। लेकिन ध्यान दें, आपकी उत्सुकता बाद में पछतावे का कारण बन सकती है। जी हॉं, नए वाहन की डिलीवरी लेने से पहले आपको कुछ आवश्यक सावधानियां बरतनी चाहिए। जिनके बारे में हम आज आपको बताने जा रहे हैं।

नई कार प्री-रजिस्ट्रेशन  डिलीवरी चेकलिस्ट: कार की डिलीवरी लेने से पहले इस बात को जांच लें कि यह किस महीने में बनाई गई है, इसकी जांच के लिए वाहन पहचान संख्या (VIN) को पढ़ें। डीलर द्वारा दिया गया फॉर्म -22 इंजन व चेसिस नंबर की जानकारी देगा। इसके साथ ही इस फॉर्म के भाग के रूप में जारी किए गए रोड-वर्थनेस सर्टिफिकेट में वाहन के उत्पादन का महीना व वर्ष दिया होता है। यह भी सुनिश्चित करें कि ओडोमीटर केबल को डिस्कनेक्ट किया गया है या नहीं, क्योंकि संभावना है कि वाहन को डेमो कार के रूप में इस्तेमाल किया गया हो। इन सब चीजों को चेकिंग वाहन अपने नाम पर रजिस्टर होन से पहले करें।

कार के एक्स्टीरियर की जांच: डीलर के यहां खड़ी कार में पेंट का खराब होना या बॉडी डैमेज होना एक आम बात है। इसकी जांच के लिए वाहन के एक्सटीरियर की जांच करें। जांच के बाद डीलर से एक लिखित में पुष्टि प्राप्त करें और सुनिश्चित करें कि यह वाहन देने से पहले तय हो। इसके अलावा अपने वाहन की डिलीवरी के समय इंजन शोर को भी देख लें।

इंटीरियर की जांच: कार की डिलीवरी लेते समय वाहन के इंटीरियर की जांच करें। इसके लिए आपको डैशबोर्ड, सीटों, दरवाजों के पैड और फर्श के कालीन को अच्छे से चेक कर लें। इसके साथ ही इलेक्ट्रॉनिक्स, सीट बेल्ट और ग्लोव बॉक्स को भी कार्य करने की आवश्यकता होती है। सबसे जरूरी बात वाहन के एयर कंडीशनर को चेक करें कि यह सामान्य रूप से कार्य कर रहा है या नहीं।

वाहन के कागजात: एक बार आप उपर दी गई चीजों से आश्वश्त हो जाएं तो तो वाहन के कागजात पर ध्यान दें। यह सुनिश्चित करें कि VIN वाहन के बिल, पंजीकरण प्रमाणपत्र के साथ-साथ फाइनेंस के कागजात पर समान नंबर है या नहीं। इसके अलावा किए गए सभी भुगतानों के बीमा विवरण और फ़ाइल रसीदों की जांच करें।