Ram Navami 2021: क्या आपको पता है ‘रामायण’ के राम अरुण गोविल निभा चुके हैं लक्ष्मण का किरदार, जीतेंद्र ने बने थे राम

Share with your friends
arun-govil

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम उच्च आदर्शों और चारित्रिक श्रेष्ठता की एक मिसाल हैं। भारतीय संस्कृति और सभ्यता की एक ऐसी कड़ी, जिसने युगों-युगों तक समाज को दिशा दिखायी। 21 अप्रैल को देशभर में राम नवमी का त्योहार मनाया जा रहा है। हालांकि, कोरोना वायरस पैनडेमिक की वजह से सार्वजनिक समारोह आयोजित नहीं किये जा रहे हैं, मगर मन में भक्ति-भाव की कहीं कोई कमी नहीं है।

राम एक ऐसा किरदार हैं, जिसने फ़िल्म इंडस्ट्री को भी ख़ूब प्रभावित किया है। भारतीय फ़िल्मों के इतिहास में कई दफ़ा इस महान किरदार को अलग-अलग तरीक़े से बड़े और छोटे पर्दे पर पेश किया जाता रहा है। यहां हम ऐसे कलाकारों के बारे में बात कर रहे हैं, जिन्होंने किसी फ़िल्म या धारावाहिक में भगवान राम के किरदार को जीवंत किया। 

जीतेंद्र बने थे राम और जया प्रदा सीता

कम लोग जानते हैं कि बॉलीवुड में जम्पिंग जैक के नाम से मशहूर वेटरन एक्टर जीतेंद्र भी भगवान राम बन चुके हैं और उनके साथ सीता के किरदार में नज़र आयी थीं वेटरन एक्ट्रेस जया प्रदा। 1997 में आयी वी मधुसूदन राव की फ़िल्म लव कुश में जीतेंद्र और जया प्रदा, राम और सीता के किरदार में दिखे थे। इस फ़िल्म की कहानी महर्षि वाल्मीकि रचित उत्तर रामायण पर आधारित थी, जिसमें राम और सीता के बेटों लव और कुश की कथा दिखायी गयी थी। दिलचस्प बात यह है कि इस फ़िल्म में अरुण गोविल ने राम के छोटे भाई लक्ष्मण का रोल निभाया था, जो ख़ुद भगवान राम के किरदार के लिए जाने जाते हैं।

हिंदी सिनेमा में रामायण पर आधारित फ़िल्मों का निर्माण करने का सिलसिला भारतीय सिनेमा के आरम्भ के साथ ही शुरू हो गया था। 1917 में भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री के पितमाह दादा साहब फाल्के ने लंका दहन फ़िल्म बनायी थी। यह साइलेंट फ़िल्म थी। रामायण की कहानी फ़िल्मकारों को प्रभावित करती रही और अलग-अलग दौर में सबने राम और सीता की कहानी को अपने-अपने हिसाब से पेश किया। मगर पहली चर्चित फ़िल्म 1954 में आयी विजय भट्ट की रामायण है, जिसमें काजोल की नानी शोभना समर्थ ने सीता और प्रेम अदीब ने राम का रोल निभाया था।

इससे पहले ये दोनों 1943 में आयी विजय भट्ट की ही फ़िल्म राम राज्य और 1948 में रिलीज़ हुई रामबाण में राम और सीता के किरदार निभा चुके थे। 1961 में बाबूलाल मिस्त्री ने सम्पूर्ण रामायण शीर्षक से फ़िल्म बनायी, जिसमें महीपाल ने राम और अनीता गुहा ने सीता का किरदार निभाया था। हिंदी के अलावा दक्षिण भारतीय भाषाओं में भी रामायण पर आधारित कई फ़िल्मों का निर्माण किया गया था।

छोटे पर्दे के राम

जिन कलाकारों ने भगवान राम के किरदार को निभाया है, उनमें सबसे चर्चित नाम अरुण गोविल का है, जिन्होंने रामानंद सागर की रामायण में इस किरदार को इतनी शिद्दत से निभाया कि हिंदी सिनेमा में तमाम फ़िल्में करने के बावजूद उन्हें राम के रूप में देखा और याद किया जाता है। अस्सी के दौर में दूरदर्शन पर प्रसारित हुई रामायण आज भी जी-भरकर देखी जाती है। छोटे पर्दे पर गुरमीत चौधरी राम और देबीना बनर्जी भी राम और सीता के किरदार निभाकर चर्चित हुए थे। 

Share with your friends