Credit Card और Credit Line Cards: जाने दोनों में क्या है अंतर, कौन है बेहतर,

which credit card is better

Credit Card से एक खास सुविधा यह है कि इससे यूजर्स अभी कुछ भी खरीद कर बाद में इसका पेमेंट कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड रखना और उसका इस्तेमाल करना ही समझदारी नहीं है, बल्कि क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल सही तरीके से करना समझदारी है। कई बार इसका इस्तेमाल ठीक से नहीं किया जाये तो यूजर्स को कई तरह के शुल्क देने पड़ जाते हैं। क्रेडिट के बिल पेमेंट में की गई गलती आगे ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है। नकदी की जगह पर क्रेडिट कार्ड बहुत उपयोगी साबित होता है। आप क्रेडिट कार्ड अपनी जरूरत के हिसाब से चुनें। अगर आप भी क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर रहे हैं तो कुछ जरूरी बातों पर ध्यान दें।

क्रेडिट कार्ड के अलावा क्रेडिट लाइन कार्ड जैसे अन्य विकल्प भी हैं, जिनके बारे में ज्यादातर लोग नहीं जानते हैं। क्रेडिट लाइन कार्ड से पर्सनल लोन का लाभ लेने के लिए उधारकर्ताओं, विशेष रूप से वेतनभोगी और स्व-नियोजित व्यक्तियों को सुविधा है। क्रेडिट लाइन कार्ड व्यक्तिगत कर्ज के समान है, लेकिन इन्हें किसी भी पीओएस टर्मिनल पर स्वाइप किए जाने के साथ-साथ किसी भी एटीएम से नकदी निकालने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 

वहीं, अगर क्रेडिट कार्ड उधार लेने वाले क्रेडिट को चुकाने के लिए सीमित समय देते हैं, क्रेडिट लाइन कार्ड पर्सनल लोन के समान हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि हाई क्रेडिट कार्ड कर्ज वाले उधारकर्ता अपने कर्ज से छुटकारा पाने के लिए क्रेडिट लाइन कार्ड की मदद ले सकते हैं। उच्च क्रेडिट स्कोर वाले व्यक्ति को कम क्रेडिट स्कोर वाले लोगों की तुलना में आसानी से क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन मिल जाता है। बैंक, क्रेडिट कार्ड कंपनियां और एनबीएफसी एक निश्चित मात्रा में शुल्क लेते हैं, जिसमें पूर्व भुगतान शुल्क और अन्य छिपे हुए शुल्क शामिल होते हैं। 

क्रेडिट लाइन कार्ड लिए पात्रता

18 वर्ष से अधिक आयु के भारतीय नागरिक मौजूदा रोजगार के प्रमाण के साथ 15,000 रुपये या उससे अधिक की मासिक कमाई करते हैं, वे एक बैंक खाता और एक वैध पहचान और पता प्रमाण आसानी से क्रेडिट लाइन कार्ड का विकल्प चुन सकते हैं। यूजर्स को दी जाने वाली फ़ास्ट पर्सनल लोन या क्रेडिट लाइनें 500 रुपये से लेकर 5,00,000 रुपये तक होती हैं, जो कि 3 महीने से 36 महीने के बीच की चुकौती अवधि के साथ होती हैं।